Home GK कॉर्न फ़्लोर क्या होता हैं – cornflour in hindi

कॉर्न फ़्लोर क्या होता हैं – cornflour in hindi

कॉर्न फ़्लोर क्या होता हैं – जैसा कि आप जानते हैं कि corn मतलब मक्का होता है. लेकिन जब इस मक्के का आटा बनाया जाता है तो वह कॉर्न फ्लोर (cornflour in hindi) से अलग होता है.

आपको यह तो पता है कि corn मतलब मक्का होता है. लेकिन मक्के को पीसकर बनाए हुए आटे को cornmeal flour कहते हैं.

पर क्या आपने कभी कॉर्नफ्लोर को देखा है. वह बिल्कुल मैदे की तरह चिकना होता है, बिल्कुल मुलायम।

चलिए अगर आपको इसके बारे में पता नहीं है कि कॉर्न फ्लौर होता क्या है (corn flour kya hota hai).

तो आज आपको बता ही देते कि कॉर्न फ्लौर क्या होता हैं.

कॉर्न फ़्लोर क्या होता हैं –

जब मक्के के दाने को सुखा कर उसे पिसा जाता है तो जो मक्के का आटा हमें मिलता हैं तो उसे कौन मिल फ्लोर कहते हैं.

लेकिन जब हम मक्के के दाने को छिलका उतारकर फिर उसे पीसते हैं तो जो आटा हमें प्राप्त होता है उसे ही corn flour कहते हैं.

दरअसल इस कॉर्न यानि मक्के के दाने में स्टार्च होता हैं जिसे पीस कर लोग कॉर्न फ्लौर प्राप्त करते हैं.

स्टार्च फ्लौर और कॉर्न फ्लोर में क्या अंतर होता है –

कॉर्नफ्लोर पीले रंग का होता है क्यूंकि ये छिलका सहित होता है. वही स्टार्च फ्लोर मक्के का आटा होता है.

लेकिन उसमें छिलका नहीं होता है. वह बिल्कुल गेहूं के मैदा की तरह ही होता है सफेद रंग का.

बिल्कुल चिकना इसमें प्रोटीन की मात्रा कम होती है.

कॉर्न फ्लोर का उपयोग –

1. क्या आपको डीप फ्राई फ़ूड पसंद हैं तो आपके लिए कॉर्न फ्लौर (cornflour in hindi) सबसे अच्छा हैं.

कॉर्नफ्लोर का उपयोग कटलेट, कोफ्ता, पकोड़े या डीप फ्राइड फूड वाले आइटम बनाते समय इसे बांधने के लिए किया जाता है.

2. क्या आपको पता हैं कटे हुए फलो को सुरक्षित रखना हैं खासतौर पर उन्हें बेक करते समय.

इसका का उपयोग बेक के पहले फलों को कोट करने के लिए भी किया जाता है, जिससे पाई, टार्ट और अन्य डिजर्ट बना सकते हैं.

कॉर्न स्टार्च की पतली परत फलों के रस के साथ dissolve होती है, और फिर इसे बेक करती है.

3. corn flour का उपयोग मेडिकल कारणों के लिए भी होता है.

दरअसल कोर्नस्टार्च या कॉर्नफ्लोर प्राकृतिक पदार्थो से बने मेडिकल उत्पादों जिसमें कंडोम्स, डायाफ्राम और मेडिकल ग्लव्स शामिल है इन चीज़ों का निर्माण में भी होता हैं.

कॉर्न फ्लौर में एक पसंदीदा एंटी – स्टिक एजेंट होता हैं.

4. गेहू और मैदा में कॉर्नफ्लोर में ग्लूटेन नहीं होता है, जो कि डायबिटीज के रोगियों के लिए सही नहीं होता।

लेकिन कॉर्न फ्लौर में ग्लूटेन नहीं होता।

और इसका उपभोग केवल वे लोग करते हैं, जो गेंहू और इसके उत्पाद जैसे मैदा उनके लिए ये एक अच्छा खाद्य हैं. उनके लिए यह अच्छा विकल्प है.

5. इसका उपयोग पाचन शक्ति को सुधारने में भी किया जाता हैं.

इसमें मौजूद अघुलनशील फाइबर जैसे सेल्यूलोस और लिग्निन के कारण यह पाचन क्रिया को आसान कर देता हैं,

जोकि आँतों के लिए लाभकारी होता है.

भारत में कितने जिले हैं – list of districts of india || भारत का सबसे पुराना मॉल

क्यों तेजी से झड़ रहे हैं आपके बाल – बाल झड़ने… || क्या खाना खाने के बाद चाय पीना चाहिए