Home विज्ञान जुगनू क्यों चमकते हैं – why firefly glow at night in hindi

जुगनू क्यों चमकते हैं – why firefly glow at night in hindi

firefly in hindi – अगर आप भी ऐसा सोचते हो कि जुगनू ही वह एकमात्र ऐसा जीव है,

जो चमकता है तो आप गलत है. क्योंकि दुनिया में कई ऐसे जीव हैं

जोकि जुगनू की तरह ही चमकते हैं. जैसे एंगलर फिश और यह बहुत ही साधारण है.

बल्कि कुछ वैज्ञानिक तो जीवो के इस तरह चमकने को जीवो के बीच कम्युनिकेशन का सबसे साधारण तरीका मानते हैं,

यानी कुछ जीव अलग अलग तरीके से चमक कर अपने भावनाओं को दर्शाते हैं.

जैसे कुछ कीड़े चमकते हैं अपनी गुस्सा को दिखाने के लिए, कुछ अपने को शिकारी से बचाने के लिए,

तो कुछ अपने साथी को मेटिंग के लिए आकर्षित करने को. सबसे साधारण जीव जिसे हम जानते हैं, जो चमकता है वह है जुगनू.

जुगनू (firefly in hindi) को अक्सर हम गर्मियों के मौसम में रात को चमकते हुए देख पाते हैं

और जब हम इन्हें चमकते हुए देखते हैं तो हम यह जानना चाहते हैं

कि आखिर कैसे यह जुगनू चमकते हैं? तो चलिए पहले ये जान लेते हैं.

mumbai का निर्माण हुआ

क्या हैं जीवों के चमकाने के पीछे के चमकने का विज्ञान

जुगनू के चमकने को विज्ञान की भाषा में बायोल्यूमिनिसेंस (bioluminescense in hindi) कहते हैं

और यह होता है दो केमिकल के कारण लूसीफेरिन (luciferin) और लूसीफरेज़ (luciferase).

देखिए इसमें होता क्या है, लूसीफेरिन केमिकल जब ऑक्सीजन के साथ क्रिया करता है

तब ये  कुछ अमाउंट में एनर्जी जनरेट करता है और यह एनर्जी हीट के रूप में ना होकर,

लाइट के रूप में एमिट होती है. लेकिन लूसीफेरिन और ऑक्सीजन एक दूसरे से तब ही कंबाइन हो सकते हैं

जब एक और केमिकल लूसीफरेज़, जो कि एक एंजाइम है वह भी इस प्रक्रिया में मौजूद हो.

कैसे चमकता हैं जुगनू (firefly in hindi)

अब देखिए जुगनू के साथ भी ऐसा ही होता है, दरअसल जुगनू के पास फेफड़े नहीं होते हैं.

जुगनू सांस लेने के लिए अपने शरीर पर बने ट्यूब्स का इस्तेमाल करते हैं.

जब इन ट्यूब से ऑक्सीजन जुगनू (firefly in hindi) के निचले पेट में जाते हैं,

तब यह अक्सीजन लूसीफेरिन केमिकल से लूसीफरेज़ एंजाइम के होने पर कंबाइन हो जाते हैं

और लाइट का निर्माण करते हैं और यह लाइट बिलकुल भी गर्म नहीं होती है.

जुगनू कोल्ड लाइट का निर्माण करते हैं, जोकि जुगनू के निचले पेट को गर्म नहीं करता है.

क्यों चमकता हैं जुगनू (firefly in hindi)

जुगनू साधारणतया अपने साथी को आकर्षित करने के लिए ही चमकते हैं, मेटिंग करने को.

दरअसल फीमेल जुगनू उड़ नहीं सकते और चमकती भी नहीं है.

वहीं मेल जुगनू उड़ते भी हैं और चमकते भी हैं. मेल जुगनू चमकते हैं अपने साथी को आकर्षित करने के लिए

और आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि जुगनू (firefly in hindi) के अंडे और लारवा भी चमकीले होते हैं.

और भी हैं कई जीव

जुगनू की तरह ही एक और जीव बताते हैं आपको जो चमकता है.

यह एक काई है जो समुद्र में पाई जाती है. इसे सी स्पार्कल (sea sparkle) के नाम से जाना जाता है.

जब कोई जहाज या कोई बोट समुद्र में हलचल करता है,

तो यह काई वाले जीव ऑक्सीजन से अपने लूसीफेरिन को कंबाइन कर चमकने लगते हैं.

जानकारी विडियो से लीजिये –

Comments are closed.