Home भूगोल भारत अस्तित्व में कैसे आया || india asia collision

भारत अस्तित्व में कैसे आया || india asia collision

864
0
india existence

कैसे अस्तित्व में आये ये महाद्वीप और ये देश :-

आप बहुत से देशो के बारे में जानते होंगे, जैसे भारत, ऑस्ट्रेलिया, जॉर्जिया, वियतनाम और विश्व में मौजूद 7 महाद्वीपों के बारे मे जानते होंगे। लेकिन क्या आप ये जानते हैं कि ये द्वीप,ये महाद्वीप और ये देश अस्तित्व में कैसे आये। क्यूंकि इन्ही के अस्तित्व में ही छिपा हैं भारत के अस्तित्व का राज़ तो चलिए जानते हैं …..

करोडो साल पहले की प्रक्रिया हैं महाद्वीपों और देशों का बनना :-

बात शुरू होती हैं आज से 27 करोड़ साल पहले से उस समय पृथ्वी को अस्तित्व में आये 4 अरब 20 करोड़ साल हो गये थे। उस समय पृथ्वी पर जमीन का बस एक टुकड़ा था। उस समय कोई उत्तरी अमेरिका, दक्षिण अमेरिका एशिया ये सब कुछ नही था, बस केवल एक ही ज़मीन का टुकड़ा था। जिसका क्षेत्रफल आज के सभी देशो के क्षेत्रफल के जोड़ के बराबर था। हमारे आज के विद्वानों ने उस समय के इस ज़मीन के टुकड़े को pangea (पैंजिया) का नाम दिया। लेकिन समय के साथ ये जमीन का टुकड़ा दो भागो में बटना शुरू हो गया। वैज्ञानिको के अनुसार इसका कारण ज़मीन के नीचे बहने वाले magma और volcanic activity (ज्वालामुखी क्रियाएं) था। pangea (पैंजिया) का एक भाग टूटकर उत्तर की ओर चला गया जो की laurasia (लौरसिया) और एक भाग टूटकर दक्षिण में चला गया जो कि गोंडवाना (gondwana) कहलाया। हमें यहाँ गोंडवाना supercontinent पर ही ध्यान देना है, क्यूंकि इसी गोंडवाना से ही टूटकर ऑस्ट्रेलिया, अफ्रीका, दक्षिण अमेरिका, अंटार्टिका और यहाँ तक की अपना भारत भी अस्तित्व में आया। आज से 18 करोड़ साल पहले गोंडवाना टूटना शुरू हुआ और ये सब द्वीप बने।

अफ्रीका से अलग हुआ भारत का ज़मीनी टुकड़ा :-

आज से 9 करोड़ साल पहले अफ्रीका से एक ज़मीन का टुकड़ा अलग हुआ जो कि क्षेत्रफल में काफी बड़ा था। इस ज़मीन के टुकड़े में आज का भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश, नेपाल, भूटान, श्रीलंका और madagaskar जैसे देश निहित थे। अब लगभग 8.8 करोड़ साल इस ज़मीन का एक बड़ा भाग madagaskar को छोड़ उपर की ओर northeast दिशा की ओर बहुत ही तेज़ी बढ़ने लगा। और आज से 4 करोड़ साल पहले एशिया यानि यूरेशिया प्लेट से जा टकराया। यहाँ मैं आपको बता दूं की उपर laurasia supercontinent भी टूटकर उत्तरी अमेरिका, यूरोप, और एशिया में बट चुका था। indian plate का यूरेशियन plate से टकराने का नतीजा एक बहुत ही ऊँचे पर्वत का निर्माण हुआ। आज हम उस पर्वत श्रृखला का नाम हिमालय के नाम से जानते हैं। आज से 8.8 करोड़ साल पहले indian plate 20 cm/year की रफ़्तार से नार्थईस्ट दिशा की तरफ बढ़ रहा था। जो कि उस समय किसी भी plate में सबसे ज्यादा। आज के समय में भी indian plate 3 cm/year की रफ़्तार से बढ़ रहा हैं। और इसी वजह से हिमालय भी सर साल 1 cm से ज्यादा बढ़ता जा रहा हैं।

यही जानकारी विडियो के रूप में जानने के लिए ये विडियो देखिये –

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here